एक सोच – कुछ शब्द

पल दो पल निकल गए, कल भी कल पर रुक गया.
वृक्ष सा मैं वहां, रुका रहा, खड़ा रहा.

आये-गए, वोह सर्द-गर्म-बारिशों के मौसम,
मैं वहां, था जहां, रुका रहा, खड़ा रहा.

जब चला, मीलों चला, गिरा उठा, आगे बढ़ा .
ज़िन्दगी की नयी सुबह को मांगते ही शाम हुई.

ये ज़िन्दगी जो मांगती , जो चाहती , वोह तुम ही थे,
तुम चले, ना रुके, आगे बढ़े,
मैं वहीँ वृक्ष सा, रुका रहा, खड़ा रहा.

– शांतनु कौशिक

1 Thought.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *